English
Download App from store
author
Arjun S.Bisht
I enjoy reading and writing. My favorite genres are Children, Drama, Fantasy, Folklore, Inspiration, Love, Mythology, Film Scripts, Social Commentary, Travelogue. I have been a part of the Kahaniya community since 26th September 2020.
episodes
No Episodes
author
Arjun S.Bisht
सिमोली
बहादुर बच्चे की कहानी
0 views
0 reviews

वहाँ पहुँच कर देखता है की , सामने सिंहासन पर एक बुढिया बैठी है। सिमोली उससे बोलता है - अम्मा मैं सुरपिता से मिलना चाहता हूँ । इस पर सामने बैठी सुरपिता बोलती है - बच्चे मैं ही सुरपिता हूँ। ये सुनकर सिमोली बोला - मैंनें सुना है , सुरपिता बडी खतरनाक है , पर आप तो ऐसी नही दिखती। ये बात सुनकर सुरपिता मुस्कुराते हुये बोली - सब झूठ बोलते हैं , क्या मैं तुम्हें खतरनाक दिखती हूँ। सिमोली बोला - नही , आप तो ऐसी नही दिखती , पर एक बात बताओ , लोग क्यों बोलते हैं की आपने मेरे माँ बाप को कैद करके रखा है। इस पर सुरपिता बोली - बच्चे मैंनें किसी को कैद करके नही रखा है , फिर भला मैं तुम्हारे माता पिता को भला क्यों कैद करूँगी , तुम्हारे माँ बाप को सामने के पहाडों पर रहने वाला दुष्ट मलालू ने कैद कर लिया होगा , मैं तो सारे इलाके का भला चाहती हूँ , इसलिये मैं मेरे इलाके में लोगों को आने नही देती , ताकि दुष्ट मलालू कहीं उन्हें उठा ना ले जाये, लगता है तुम्हारे माता पिता भी जड़ी बूटियों को चुनते हुये , मलालू के इलाके में चले गये होंगें ओर दुष्ट मलालू ने उन्हें बंदी बना लिया होगा। ये सुनकर सिमोली बोला - क्या आप मुझे मलालू के इलाके में जाने का रास्ता बता सकती हो , मैं वहाँ जाकर अपने माता पिता को छुड़ा कर लाऊँगा। सुरपिता ये सुनकर हँस पड़ी ओर बोली - अभी तुम बच्चे हो , दुष्ट मलालू की शक्ति को नही जानते , तुम वहाँ जाओगे तो तो वो तुम्हें भी बंदी बना लेगा , इसलिये बच्चे वहाँ जाने से पहले तुम्हें कुछ शक्तियाँ अर्जित करनी होगी , तब ही तुम वहाँ जाकर कुछ कर पाओगे। ये सुनकर सिमोली बोला - कैसी शक्ति ओर कहाँ मिलेगी शक्ति , मुझे बताओ , जहाँ भी वो शक्ति मिलेगी , मैं उसको लाऊँगा। इस पर सुरपिता बोली - मैं दूँगी तुम्हें वो शक्ति , पर जैसे मैं तुम्हें कहूँ , वैसा तुम्हें करना होगा , क्या तुम वो सब कर पाओगे , क्योंकि इसमें तुम्हें काफी मेहनत करनी होगी। सिमोली बोला - मलालू तक पहुँचने के लिये , मैं सब कुछ करने को तैयार हूँ। इस पर सुरपिता बोली - ठीक है , अभी तुम आराम करो , कल से मैं तुम्हें उन शक्तियों के बारे में बताऊँगी , जिनको पाकर तुम दुष्ट मलालू के चंगुल से अपने माता पिता को छुड़ाकर ला सकोगे........

© All rights reserved
Reviews (0)